भूगोल नोट्स: उत्तर भारत का मैदान

उच्चावच की दृष्टि से उत्तर भारत के मैदान को दो भागों में बांटा गया है।
  1. भांबर प्रदेश
  2. तराई प्रदेश
  3. बांगर प्रदेश
  4. खादर प्रदेश

भांबर प्रदेश

  • हिमालय से निकलने वाली नदियाँ हिमालय से बड़े-बड़े शिलाखंडों को बहाकर लाती हैं और इन्हें शिवालिक के गिरिपात प्रदेशों में छोड़ देती हैं। इन क्षेत्रों को गिरिपात प्रदेश कहा जाता है।
  • भांबर प्रदेश शिवालिक के दक्षिण में सिन्धु नदी से तीस्ता नदी तक विस्तृत है।
  • भांबर प्रदेश कृषि योग्य नहीं होता है क्योंकि ये चट्टानों से ढका हुआ है।

तराई प्रदेश

  • जब नदियाँ भांबर प्रदेश से बाहर निकलती हैं तो बिखराव के कारण एक दलदले क्षेत्र का निर्माण हो जाता है, जिसे तराई प्रदेश कहते हैं।
  • तराई क्षेत्र धान की खेती के लिए अत्यधिक उपयोगी होता है।
  • तराई क्षेत्रों में कई प्रकार के रेंगने वाले जीव और मच्छर पाए जाते हैं, जिस वजह से ये क्षेत्र रहने के अनुकूल नहीं होता है।

भांबर क्षेत्र

  • तराई क्षेत्र से निकलने के बाद नदियाँ समतल मैदान में बहती हैं। इस क्षेत्र को भांबर प्रदेश कहते हैं।
  • इस क्षेत्र का निर्माण नदियों द्वारा लायी गयी मिट्टियों द्वारा ही हुआ है।
  • यहाँ पर पुरानी जलोढ़ मिटटी के अवसाद पाए जाते हैं।

खादर प्रदेश

  • लगातार नदियों द्वारा लायी गयी मिटटी से भांबर प्रदेश में मैदान की ऊँचाई ज्यादा हो जाती हो जाती है जिस वजह से नदिया निचले क्षेत्रों में उतारकर बहने लगती हैं।
  • इस क्षेत्र को खादर प्रदेश कहते हैं।
  • इस क्षेत्र में अत्यधिक बढ़ आते हैं, वजह से नदियाँ हमेशा यहाँ पर नई मिटटी लाकर जमा करती रहती हैं।
  • हमेशा नई मिटटी आ जाने की वजह से ये क्षेत्र अत्यधिक उपजाऊ होता है।
  • प्रतिवर्ष बाढ़ से नयी मिटटी लाने की प्रक्रिया को जलोढ़ निक्षेप कहते हैं।
  RRB NTPC CBT-1 Physics Quiz-11 : रेलवे एनटीपीसी परिक्षा में पूछे गये भौतिक विज्ञान के प्रश्न


Leave a Reply