इतिहास नोट्स: भारत पर तुर्कों का आक्रमण; शंसबानी वंश (मोहम्मद गोरी)

Muhammad Ghori Wife Muhammad Ghori Death Hindi Muhammad Ghori Tomb Essay on Muhammad Ghori Muhammad Ghori History in Hindi Muhammad Ghori UPSC

शंसबानी वंश

मोहम्मद गोरी

  • अफगानिस्तान में गजनी वंश के पतन के बाद “गोरी कबीले” ने शक्ति प्राप्त करना शुरू कर दिया। गोर में जो वंश था उसे शंसबानी वंश कहा गया। मुहम्मद गोरी इस कबीले का शासक था।
  • महमूद गजनवी के विपरीत, मुहम्मद गोरी के भारत पर आक्रमण का उद्देश्य भारत पर मुस्लिम राज्य की स्थापना करना था।
  • मुहम्मद गोरी ने भारत पर प्रथम आक्रमण 1175 ईस्वी में मुल्तान पर किया था।
  • 1178 ईस्वी के गुजरात आक्रमण के समय वहां के शासक भीम द्वितीय (मूलराज) ने गोरी को बंदी बना लिया लेकिन बाद में छोड़ दिया था। यह गोरी की भारत में प्रथम पराजय थी।
  • इस समय के दौरान दिल्ली पर चौहान वंश के पृथ्वी राज चौहान त्रितय का शासन था। मुहम्मद गोरी और पृथ्वी राज चौहान के बीच दो लड़ाईयां
  1. तराईन का प्रथम युद्ध (1191 ईस्वी) इस युद्ध में गोरी दूसरी बार हार गया था।
  2. तराईन का द्वितीय युद्ध (1192 ईस्वी) जिसमें पृथ्वीराज चौहान की पराजय हुई।
  • तराईन के द्वितीय युद्ध के बाद मोहम्मद गोरी ने दिल्ली और अजमेर पर नियंत्रण कर भारत में मुस्लिम साम्राज्य की नींव डाली। गोरी को ही भारत में मुस्लिम साम्राज्य का वास्तविक संस्थापक माना जाता है।
  • कन्नौज विजय के पश्चात मुहम्मद गोरी के सिक्कों पर देवी लक्ष्मी बनी है और दूसरी ओर कलमा (अरबी में)
  • खुदा हुआ था जिसपर देवनागरी लिपि में मोहम्मद बिनसाम अंकित था।
  • मुहम्मद गोरी ने 56 ग्रेन का दिल्ली कला नामक सिक्का चलवाया था। 1194ईस्वी में चंदावर के युद्ध में मुहम्मद गोरी ने कन्नौज के राजा जयचंद को हराया।
  • मोहम्मद गोरी के सेनापति बख्तियार खिलजी ने पृवी भारत को विजित किया और नालंदा व विक्रमशिला विश्वविद्यालयों को नष्ट कर दिया। 1206 ईस्वी में गोरी, कुतुबुद्दीन ऐबक को भारत का नेतृत्व सौंप कर वापस अपने गृह प्रान्त की ओर जाते समय दमयक नापाक स्थान पर 15 मार्च 1206 ईस्वी को उसकी हत्या कर दी गयी।
    मुहम्मद गोरी का भारत पर आक्रमण
    वर्ष
    राज्य
    शासक
    परिणाम
    1175
    मुल्तान
    करमाथी शासक
    विजय
    1176
    उच्छ
    करमाथी शासक
    विजय
    1178
    अन्हिलवाड़
    गुजरात
    चालुक्य रानी नाईक देवी
    (अल्पवयस्क भीम II)
    पराजय
    1179
    पेशावर
    मालिक खुसरो
    विजय
    1181
    लाहौर
    मालिक खुसरो
    विजय
    1182
    देवल व् सिंध
    सुम्र शासक
    विजय
    1185
    स्यालकोट
    मालिक खुसरो
    विजय
    1186
    लाहौर
    मालिक खुसरो
    विजय
    1189
    भटिंडा
    चौहान सूबेदार
    विजय
    1191
    तराईन
    पृथ्वीराज चौहान
    पराजय
    1192
    तराईन
    पृथ्वीराज चौहान
    विजय
    1193
    हांसी, कुहराम, सरसुतह व दिल्ली
    NA
    NA
    1194
    कन्नौज (चंदावर)
    जयचंद
    विजय
    1195-96
    बयाना
    कुमार पाल
    विजय
    1196
    ग्वालियर
    सुलक्षणपाल
    विजय

    इतिहास नोट्स: भारत पर तुर्कों का आक्रमण भाग -1

  भारत में क्रांतिकारी आंदोलन | Bharat Mein Krantikari Andolan

Leave a Reply